Shiv Ji Ki Aarti Lyrics 2020 Mahadev Aarti Lyrics

Shiv Ji Ki Aarti Lyrics 2020: OM Jai Shiv Omkara Aarti In Hindi Shiv Ji Ki Aartiyan शिव की आरती  Worship without Shiva's aarti is considered incomplete. Aarti of Lord Shiva on Mahashivaratri eliminates all kinds of problems. Aarti of Shiva takes place several times a day. Lord Shiva should be worshiped with ghee and cotton. ओम जय शिव ओमकारा भगवान शिव की सबसे प्रसिद्ध आरती में से एक है। भगवान शिव से संबंधित अधिकांश अवसरों पर इस प्रसिद्ध आरती का पाठ किया जाता है।


शिव की आरती  Shiv Ji Ki Aarti Lyrics 2020 


Lord Shiva Aarti Lyrics in Hindi


जय शिव ओंकारा हर ॐ शिव ओंकारा |
ब्रह्मा विष्णु सदाशिव अद्धांगी धारा ॥ ॐ जय शिव ओंकारा

एकानन चतुरानन पंचांनन राजे |
हंसासंन, गरुड़ासन, वृषवाहन साजे॥ ॐ जय शिव ओंकारा

दो भुज चारु चतुर्भज दस भुज अति सोहें |
तीनों रूप निरखता त्रिभुवन जन मोहें॥ ॐ जय शिव ओंकारा

अक्षमाला, बनमाला, रुण्ड़मालाधारी |
चंदन, मृदमग सोहें, भाले शशिधारी ॥ ॐ जय शिव ओंकारा

श्वेताम्बर,पीताम्बर, बाघाम्बर अंगें |
सनकादिक, ब्रह्मादिक, भूतादिक संगें॥ ॐ जय शिव ओंकारा

कर के मध्य कमड़ंल चक्र, त्रिशूल धरता |
जगकर्ता, जगभर्ता, जगससंहारकर्ता ॥ ॐ जय शिव ओंकारा

ब्रह्मा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका |
प्रवणाक्षर मध्यें ये तीनों एका॥ ॐ जय शिव ओंकारा

काशी में विश्वनाथ विराजत नन्दी ब्रम्हचारी |
नित उठी भोग लगावत महिमा अति भारी ॥ ॐ जय शिव ओंकारा

त्रिगुण शिवजी की आरती जो कोई नर गावें |
कहत शिवानंद स्वामी मनवांछित फल पावें ॥ ॐ जय शिव ओंकारा

जय शिव ओंकारा हर ॐ शिव ओंकारा|
ब्रह्मा विष्णु सदाशिव अद्धांगी धारा॥ ॐ जय शिव ओंकारा