Dil Ko Chu Jane Wali Kahaani DIL SE DESI

Dil ko Chu Jane Wali Baatein

आधी रात को बहुत बारिश हो रही थी।
Karan और उसकी बीवी swati एक मित्र की
पार्टी से अपनी
गाडी से घर वापस लौट रहे थे..

बारिश की वजह से karan बहुत धीमी गति से
गाड़ी चला रहा
था,

तभी अचानक बिजली गिरी..

बिजली की रोशनी में अजय को गाड़ी के सामने
एक बदहवास सी
एक औरत दिखाई दी..

Karan ने गाड़ी रोक दी..!

गाड़ी रुकने पर उसकी

बीवी ने कहा :- क्या
हूआ..? गाड़ी क्यों
रोक दी..?




Karan ने आगे की ओर इशारा किया।

Swati ने आगे देखा तो वो डर गयी,

 क्यों कि
गाड़ी के सामने एक
औरत खड़ी थी।
वो औरत गाड़ी के पास आयी, और हाथ से गाड़ी
का शीशा नीचे
करने का इशारा करने लगी।

Karan की बीवी swati काफी डर गयी थी,

उसने karan को गाडी
चलाने को कहा, लेकिन गाड़ी भी स्टार्ट नही
हुईं।

गाड़ी के बाहर खडी औरत बारिश की वजह से
भींग गयी थी।

वो हाथ जोडकर गाड़ी का शीशा नीचे करने
का इशारा कर रही
थी।

Karan को लगा कि वो औरत किसी मुसीबत मे है,

इसलिए उसने
गाड़ी का शीशा नीचे किया।

वो औरत हाथ जोडकर बोली, "भाई साहब मेरी
मदद करे..

 तेज
बारिश की वजह से मेरी गाड़ी का एक्सीडेंट हो
गया है,

 मेरी
गाड़ी रास्ते के नीचे गिर गयी है,
उसमें मेरी
छोटी बच्ची है..
 प्लिज
उसे बचाईये..।"


Karan गाड़ी से उतरा और उस औरत के पीछे गया।

उस औरत की गाड़ी रास्ते के काफी नीचे गिर
गयी थी।


Karan नीचे उतरकर उस गाडी केपास गया तो देखा
कि उसमें एक

प्यारी छोटी सी फूल सी बच्ची रो रही है..

उसने बच्ची को बाहर निकाला,

फिर karan को
लगा की ड्रायवर
की सीट पर भी कोई है।

जब karan ने ड्रायवर की सीट पर देखा तो उसके
होश उड
गये,




क्योंकि ड्रायवर के सीट पर वही औरत खून से
लथपथ मरी पडी
थी।

Karan को अब सब समझ में आया।
वो बच्ची को लेकर अपनी गाड़ी के पास
आया

,बच्ची को अपनी
बीवी swati को दिया।

उसकी बीवी बोली, "वो औरत कहा है..? वह
कौन थीं...?"


Karan बोल
.
.
.

.
.
.
"वो एक माँ थी। मर कर भी बेटियों के लिये
तड़पती है मां ..!!"
ये पढ़कर मेरे दिल से आँसू निकल रहे है दोस्तों अगर
कोई मुसीबत में है
तो उसकी सहायता जरूर कीजि

@▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲@
 ((      डिलिट मत              \\
   \\ करना मेशिज फ्री है!     \\
 
   //9 लोगो को भेजो Fairst //
 // रात तक अपके पास   //
((  अछी खबर अयेगी !   ((
@▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼@



मैनें मेरे एक दोस्त को फोन किया और कहा कि यह मेरा नया नंबर है, सेव कर लेना।

उसने बहुत अच्छा जवाब दिया और मेरी आँखों से आँसू निकल आए।

उसने कहा तेरी आवाज़ मैंने सेव कर रखी है। नंबर तुम चाहे कितने भी बदल लो, मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता। मैं तुझे तेरी आवाज़ से ही पहचान लूंगा।

ये सुन के मुझे हरिवंश राय बच्चनजी की बहुत ही सुन्दर कविता याद आ गई....

"अगर बिकी तेरी दोस्ती तो पहले खरीददार हम होंगे।
तुझे ख़बर ना होगी तेरी कीमत, पर तुझे पाकर सबसे अमीर हम होंगे॥

"दोस्त साथ हों तो रोने में भी शान है।
दोस्त ना हो तो महफिल भी शमशान है॥"

"सारा खेल दोस्ती का हे ए मेरे दोस्त,
                  वरना..
जनाजा और बारात एक ही समान है।"

🙋🏻‍♂ सारे दोस्तों को समर्पित.! 🙇🏻😊🙏


funny joke in hindi for whatsapp 
joke on english language 
Happy Birthday Shayari in hindi