Subhash Chandra Bose Suvichar In Hindi - Hindi Quotes

सुभाष चन्द्र बोस के अनमोल वचन - Subhash Chandra Bose Quotes in Hindi


सुभाष चन्द्र बोस (बांग्ला: সুভাষ চন্দ্র বসু उच्चारण: शुभाष चॉन्द्रो बोशु, जन्म: 23 जनवरी 1897, मृत्यु: 18 अगस्त 1945) जो नेता जी के नाम से भी जाने जाते हैं, भारत के स्वतन्त्रता संग्राम के अग्रणी नेता थे। द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान, अंग्रेज़ों के खिलाफ लड़ने के लिये, उन्होंने जापान के सहयोग से आज़ाद हिन्द फौज का गठन किया था। उनके द्वारा दिया गया जय हिन्द का नारा भारत का राष्ट्रीय नारा बन गया है। "तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आजादी दूंगा" का नारा भी उनका उस समय अत्यधिक प्रचलन में आया।


सुभाष चन्द्र बोस के क्रांतिकारी विचार, जीवन के विभिन्न पहलुओं पर नेताजी सुभाष चन्द्र बोस





Netaji Subhas Chandra Bose Quotes in Hindi


तुम  मुझे  खून  दो  मैं  तुम्हें  आज़ादी  दूंगा!




राष्ट्रवाद  मानव  जाति  के  उच्चतम आदर्शों  सत्यम्  , शिवम्, सुन्दरम्  से   प्रेरित  है।




याद  रखिए  सबसे  बड़ा  अपराध अन्याय सहना और  गलत  के  साथ  समझौता  करना  है




इतिहास  में  कभी  भी विचार-विमर्श  से  कोई  वास्तविक  परिवर्तन   हासिल  नहीं हुआ है।




एक सैनिक के रूप में आपको हमेशा तीन आदर्शों को संजोना और उन पर जीना होगा - सच्चाई, कर्तव्य और बलिदान। जो सिपाही हमेशा अपने देश के प्रति वफादार रहता है, जो हमेशा अपना जीवन बलिदान करने को तैयार रहता है, वो अजेय है। अगर तुम भी अजेय बनना चाहते हो तो इन तीन आदर्शों को अपने ह्रदय में समाहित कर लो।




एक सच्चे सैनिक को सैन्य और आध्यात्मिक दोनों ही प्रशिक्षण की ज़रुरत होती है।




प्रांतीय ईर्ष्या-द्वेष दूर करने में जितनी सहायता हिन्दी प्रचार से मिलेगी, दूसरी किसी चीज से नहीं।




आज हमारे अन्दर बस एक ही इच्छा होनी चाहिए, मरने की इच्छा ताकि भारत जी सके! एक शहीद की मौत मरने की इच्छा ताकि स्वतंत्रता का मार्ग शहीदों के खून से प्रशस्त हो सके




मेरे मन में कोई संदेह नहीं है कि हमारे देश की प्रमुख समस्याएं गरीबी, अशिक्षा, बीमारी, कुशल उत्पादन एवं वितरण सिर्फ समाजवादी तरीके से ही की जा सकती है.




आज हमारे अन्दर बस एक ही इच्छा होनी चाहिए, मरने की इच्छा ताकि भारत जी सके! एक शहीद की मौत मरने की इच्छा ताकि स्वतंत्रता का मार्ग शहीदों के खून से प्रशश्त हो सके.




ये हमारा कर्तव्य है कि हम अपनी स्वतंत्रता का मोल अपने खून से चुकाएं. हमें अपने बलिदान और परिश्रम से जो आज़ादी मिले, हमारे अन्दर उसकी रक्षा करने की ताकत होनी चाहिए




याद रखिये सबसे बड़ा अपराध अन्याय सहना और गलत के साथ समझौता करना है.




Famous Love Poems With Images 
Romantic Anniversary Poems 
Funniest knock knock Jokes