Babasaheb Ambedkar Ke Suvichar In Hindi

Babasaheb Ambedkar Ke Suvichar In Hindi डॉ. भीमराव रामजी अंबेडकर का जीवन परिचय


डॉ भीमराव अंबेडकर के सुविचार   Dr. B R Ambedkar Quotes In Hindi


डॉ. भीमराव रामजी अंबेडकर ( 14 अप्रैल, 1891 – 6 दिसंबर, 1956 ) विश्व स्तर के भारतीय विधिवेत्ता, अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ, समाज शास्त्री, मानवविज्ञानी, संविधानविद्, लेखक, दार्शनिक, इतिहासकार, धर्मशास्त्री, वकील, विचारक, शिक्षाविद, प्रोफ़ेसर, पत्रकार, बोधिसत्व, संपादक, क्रांतिकारी, समाज सुधारक, भाषाविद, जलशास्त्री, स्वतंत्रता सेनानी, बौद्ध धर्म के प्रवर्तक, सत्याग्रही, दलित-शोषित नागरिक अधिकारों के संघर्ष के प्रमुख नेता थे और वे भारतीय संविधान के शिल्पकार भी है। डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर भारत के सामाजिक आन्दोलन के सबसे बड़े नेता थे। डॉ. भीमराव आंबेडकर बाबासाहेब के नाम से लोकप्रिय हैं, जिसका मराठी भाषा में अर्थ 'पिता' होता है। उनके व्यक्तित्व में स्मरण शक्ति की प्रखरता, प्रचंड बुद्धिमत्ता, ईमानदारी, सच्चाई, साहस, नियमितता, दृढता, दूरदृष्टि, प्रचंड संग्रामी स्वभाव का मेल था। भारत को मजबूत लोकतंत्र प्रदान करने वाले बाबासाहेब अनन्य कोटी के नेता थे, जिन्होंने अपना समस्त जीवन समग्र भारत के कल्याण के लिए लगाया।

डॉ. बी. आर. अम्बेडकर के प्रेरणादायक कथन   Dr. B R Ambedkar Quotes In Hindi




B R Ambedkar Suvichar in Hindi  डॉ. भीम राव अम्बेडकर (बाबा साहेब) के अनमोल विचार





“पति-पत्नी के बीच का सम्बन्ध घनिष्ट मित्रों के सम्बन्ध के समान होना चाहिए।”
                                                       –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




“समानता एक कल्पना हो सकती है, लेकिन फिर भी इसे एक गवर्निंग सिद्धांत रूप में स्वीकार करना होगा।”
                                                        –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




“बुद्धि का विकास मानव के अस्तित्व का अंतिम लक्ष्य होना चाहिए।”
                                                         –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




“हम सबसे पहले और अंत में, भारतीय हैं।”
                                                       –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




“क़ानून और व्यवस्था राजनीतिक शरीर की दवा है और जब राजनीतिक शरीर बीमार पड़े तो दवा ज़रूर दी जानी चाहिए।”
                                                         –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




आज भारतीय दो अलग-अलग विचारधाराओं द्वारा शासित हो रहे हैं। उनके राजनीतिक आदर्श जो संविधान के प्रस्तावना में इंगित हैं वो स्वतंत्रता, समानता, और भाई -चारे को स्थापित करते हैं और उनके धर्म में समाहित सामाजिक आदर्श इससे इनकार करते हैं।
                                                          –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




इतिहास बताता है कि जहाँ नैतिकता और अर्थशाश्त्र के बीच संघर्ष होता है वहां जीत हमेशा अर्थशाश्त्र की होती है। निहित स्वार्थों को तब तक स्वेच्छा से नहीं छोड़ा गया है जब तक कि मजबूर करने के लिए पर्याप्त बल ना लगाया गया हो।
                                                          –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




उदासीनता लोगों को प्रभावित करने वाली सबसे खराब किस्म की बीमारी है।
                                                           –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 एक सफल क्रांति के लिए सिर्फ असंतोष का होना ही काफी नहीं है, बल्कि इसके लिए न्याय, राजनीतिक और सामाजिक अधिकारों में गहरी आस्था का होना भी बहुत आवश्यक है।
                                                           –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




एक सुरक्षित सेना एक सुरक्षित सीमा से बेहतर है।
                                                             –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




क़ानून और व्यवस्था राजनीति रूपी शरीर की दवा है और जब राजनीति रूपी शरीर बीमार पड़ जाएँ तो दवा अवश्य दी जानी चाहिए।
                                                              –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 जब तक आप सामाजिक स्वतंत्रता नहीं हांसिल कर लेते, क़ानून आपको जो भी स्वतंत्रता देता है वो आपके किसी काम की नहीं।
                                                             –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




जिस तरह मनुष्य नश्वर है ठीक उसी तरह विचार भी नश्वर हैं। जिस तरह पौधे को पानी की जरूरत पड़ती है उसी तरह एक विचार को प्रचार-प्रसार की जरुरत होती है वरना दोनों मुरझा कर मर जाते है।
                                                            –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




योग पर अनमोल विचार 

जिस प्रकार हर एक व्यक्ति यह सिद्धांत दोहराता हैं कि एक देश दूसरे देश पर शासन नहीं कर सकता, उसी तरह उसे यह भी मानना होगा कि एक वर्ग दूसरे वर्ग पर शासन नहीं कर सकता।
                                                              –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




ज्ञान का विकास ही मनुष्य का अंतिम लक्ष्य होना चाहिए।
                                                                –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




पति-पत्नी के बीच का सम्बन्ध घनिष्ट मित्रों के सम्बन्ध के समान होना चाहिए।
                                                                 –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




मनुष्य का जीवन महान होना चाहिए ना कि लंबा।
                                                                  –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर



 मैं उस धर्म को पसंद करता हूं जो स्वतंत्रता, समानता और भाईचारे का भाव सिखाता हैं।
                                                                   –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




मैं किसी समुदाय की प्रगति, महिलाओं ने जो प्रगति हांसिल की है, उससे मापता हूँ।
                                                                  –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 यदि मुझे लगा कि संविधान का दुरुपयोग किया जा रहा है, तो मैं इसे सबसे पहले जलाऊंगा।
                                                                  –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 यदि हम एक संयुक्त एकीकृत आधुनिक भारत चाहते हैं, तो सभी धर्मों के धर्मग्रंथों की संप्रभुता का अंत होना चाहिए।
                                                                    –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 राजनीतिक अत्याचार सामाजिक अत्याचार की तुलना में कुछ भी नहीं है और एक सुधारक जो समाज को खारिज कर देता है वो सरकार को खारिज कर देने वाले राजनीतिज्ञ से ज्यादा साहसी हैं।
                                                                     –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 लोग और उनके धर्म, सामाजिक नैतिकता के आधार पर, सामाजिक मानकों द्वारा परखे जाने चाहिए। अगर धर्म को लोगों के भले के लिये आवश्यक वस्तु मान लिया जायेगा तो और किसी मानक का मतलब नहीं होगा।
                                                                      –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




समानता एक कल्पना हो सकती है, लेकिन फिर भी इसे एक गवर्निंग सिद्धांत रूप में स्वीकार करना होगा।
                                                                      –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 समुद्र में मिलकर अपनी पहचान खो देने वाली पानी की एक बूँद के विपरीत, इंसान जिस समाज में रहता है वहां अपनी पहचान नहीं खोता। इंसान का जीवन स्वतंत्र है वह सिर्फ समाज के विकास के लिए पैदा नहीं हुआ है, बल्कि स्वयं के विकास के लिए पैदा हुआ है।
                                                                        –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 हम सबसे पहले और अंत में भारतीय हैं।
                                                                          –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




हमारे पास यह स्वतंत्रता किस लिए है? हमारे पास ये स्वत्नत्रता इसलिए है ताकि हम अपने सामाजिक व्यवस्था, जो असमानता, भेद-भाव और अन्य चीजों से भरी है, जो हमारे मौलिक अधिकारों से टकराव में है, को सुधार सकें।
                                                                            –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 हिंदू धर्म में विवेक, कारण, और स्वतंत्र सोच के विकास के लिए कोई गुंजाइश नहीं है।
                                                                             –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




Pandit Jawaharlal Nehru Suvichar In Hindi

जीवन लम्बा होने के बजाय महान होना चाहिए .
                                                                              –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




एक महान व्यक्ति एक प्रतिष्ठित व्यक्ति से अलग है क्योंकि वह समाज का सेवक बनने के लिए तैयार रहता है.
                                                                                –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




दिमाग का विकास मानव अस्तित्व का परम लक्ष्य होना चाहिए.
                                                                                  –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 मनुष्य नश्वर है. ऐसे विचार होते हैं. एक विचार को प्रचार-प्रसार की ज़रूरत है जैसे एक पौधे में पानी की ज़रूरत होती है. अन्यथा दोनों मुरझा जायेंगे और मर जायेंगे.
                                                                                –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 मैं एक समुदाय की प्रगति का माप महिलाओं द्वारा हासिल प्रगति की डिग्री द्वारा करता हूँ.
                                                                                –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 इतिहास बताता है कि जहाँ नैतिकता और अर्थशास्त्र में संघर्ष होता है वहां जीत हमेशा अर्थशास्त्र की होती है. निहित स्वार्थों को स्वेच्छा से कभी नहीं छोड़ा गया है जब तक कि पर्याप्त बल लगा कर मजबूर न किया गया हो.
                                                                               –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 हर व्यक्ति जो “MILL” का सिद्धांत जानता है, कि एक देश दूसरे देश पर राज करने में फिट नहीं है, उसे ये भी स्वीकार करना चाहिये कि एक वर्ग दूसरे वर्ग पर राज करने में फिट नहीं है.
                                                                               –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 लोग और उनके धर्म सामाजिक नैतिकता के आधार पर सामाजिक मानकों द्वारा परखे जाने चाहिए. अगर धर्म को लोगों के भले के लिये आवश्यक वस्तु मान लिया जायेगा तो और किसी मानक का मतलब नहीं होगा.
                                                                               –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




Sandeep Maheshwari Suvichar

एक सफल क्रांति के लिए सिर्फ़ असंतोष का होना काफ़ी नहीं है. आवश्यकता है राजनीतिक और सामाजिक अधिकारों के महत्व, ज़रुरत व न्याय का पूर्णतया गहराई से दोषरहित होना .
                                                                            –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




यदि हम एक संयुक्त एकीकृत आधुनिक भारत चाहते हैं तो सभी धर्मों के धर्मग्रंथों की संप्रभुता का अंत होना चाहिए.
                                                                                 –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 यदि मुझे लगा कि संविधान का दुरुपयोग किया जा रहा है, तो मैं इसे सबसे पहले जलाऊंगा.
                                                                             –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 जब तक आप सामाजिक स्वतंत्रता नहीं हासिल कर लेते,कानून आपको जो भी स्वतंत्रता देता है वो आपके लिये बेमानी है.
                                                                              –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 समानता एक कल्पना हो सकती है, लेकिन फिर भी इसे एक गवर्निंग सिद्धांत रूप में स्वीकार करना होगा.
                                                                            –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 राजनीतिक अत्याचार सामाजिक अत्याचार की तुलना में कुछ भी नहीं हैं और एक सुधारक जो समाज को खारिज कर देता है वो सरकार को खारिज कर देने वाले राजनीतिज्ञ से ज्यादा साहसी है.
                                                                              –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर




 अपने भाग्य के बजाय अपनी मजबूती पर विश्वास करो.
                                                                              –  Babasaheb Ambedkar डॉ. भीम राव अम्बेडकर 


The Best Happy Birthday Poems, Poetry For Sister 
Cute Love Quotes From the Heart 
Best Funny Blonde Jokes In English