Haryanvi Jokes in Hindi - Fantastic Collection of Haryanavi Jokes

Haryanvi Jokes in Hindi - Fantastic Collection of Haryanavi Jokes


Haryanvi Jokes

"तेरे ताहीं एक छोरा ए देख आऊं"

एक जाट का छोरा बस में जावै था । छोरा शरारती था, अर बस में खड़ी एक छोरी नै छेड़ण लाग रहया था ।


उस बस में एक बुढ़िया भी बैठी थी अर सारा नजारा देखण लाग रही थी । बुढ़िया नै छोरे की हरकतां पै घणा छो आया, अर छोरे नै सबक सिखावण ताहीं बोली - रै ताऊ, कित जावैगा ?


छोरे नै देख्या अर सोचण लाग्या अक या साठ साल की बुढिया मन्नैं "ताऊ" क्यूं कहै सै ? पर बुढ़िया की उम्र देख कै वो चुप रहया ।


थोड़ी हाण रुक कै बुढ़िया फिर बोली - "ताऊ, कित जावैगा"? छोरा फिर चुप रहया । ईब तै सारी बस आळे भी मजे लेण लाग्गे । बुढ़िया फिर बोली - "रै ताऊ, न्यूं तै बता अक तू कित जावैगा"?


ईब छोरे पै रहया ना गया, अर वो फट बोल्या - "जाऊं तै था मैं कितै और, पर ईब न्यूं सोचूं सूं अक तेरे ताहीं एक छोरा ए देख आऊं" !!



Haryanvi Jokes

पाछे नै लटक ले !!

फत्तू सवारी ढोवण खातिर नया-नया टैंपू ल्याया था । उसनै दिन-रात टैंपू ए टैंपू दीखण लाग-गे । एक रात वो सोता-सोता बोलण लाग-ग्या : आ ज्याओ भाई आ ज्याओ, टैंपू चाल्लै सै, तावळे आ-ज्याओ ।

फेर या-ए बात वो जोर-जोर तैं बोलण लाग-ग्या, तै या बात सुण कै उसकी बहू बोली: "के बात हो-गी जी, आज न्यूं क्यूकर बोलो सो?"

फत्तू नींद मैं बोल्या : कित जावैगी बेबे ?

या सारी बात फत्तू का बाबू भी सुणन लाग रहया था, वो बोल्या : अरै मेरा सुसरा, के बोलै सै बहू नै ?

फत्तू नींद में-ऐं बोल्या: "ताऊ, तू तै पाछे नै लटक ले" !!



Haryanvi Jokes

दिन छिप्पे पाच्छै

हरयाणा रोडवेज अर डी. टी. सी. में हरयाणा के मौलड़ ड्राइवर-कंडक्टर घणे भरे सैं ।


एक बै टूरिस्ट महकमे की बैठक हुई जिसमें परिवहन मंत्री भी शामिल थे । बात शुरू हुई अक दिल्ली आने वाळे टूरिस्टां नै बस में घणी दिक्कत होवै सै, क्योंकि इनके ड्राइवर-कंडक्टर सारे मौलड़ भर राखे सैं, इन्हैं इंग्लिश आती कोनी - इनका कुछ इलाज करो ।


परिवहन मंत्री नै कुछ रोडवेज आळां तै बात करी - अक हां भाई, बताओ ईब के करां ?


उन्हैं बोल-बतळा कै मंत्री ताहीं जवाब दिया - मंत्री जी, इन्हैं कह दो अक दिन की तै गारंटी सै कोनी, पर दिन छिप्पे पाच्छै (दो घूंट पी कै) सारे अंग्रेजी बोल्लैंगे!!



Top Funny Marwari Jokes 
Merry Christmas Poems 
short good night poems