Haryanvi Jokes : Funny Haryanvi jokes, Hr jokes in hindi

Haryanvi Jokes : Funny Haryanvi jokes, Hr jokes in hindi


Haryanvi Jokes

ताऊ की यात्रा

ताऊ बैठा हरियाणा रोड्वेस् की बस मै सफ़र करे था. रोहतक ते जावे था भिवानी. कलनौर आते ही टी.टी आ गया टिकट चेक करण. ताऊ धोरे जा के बोल्या , ला ताऊ टिकट दिखा. ताऊ ने अपणा झोला खोल्या , लत्ता के बीच मै ते एक प्लास्टिक् की थैली काढी, ऊस्के माह् ताऊ ने रोटी बान्ध रखी थी. रोटी के बीच ताऊ ने धर राख्या धडी पक्का चूर्मा. ताऊ ने धीरे धीरे चूर्मे मे हाथ घुमा के टिकट काढि अर टी.टी कान्नी बढा दी. टी.टी ने टिकट का हाल देख्या, कती ए चीकणी पडी थी. छो मे आ के बोल्या , अह रे ताऊ यो भी किम्मे धरण की जगह सै? सारी टिकट भुन्डी ढाल चिकणी कर दी, इस्मे के देखू मै? ताऊ लाहप्सी सा मुह बना के बोल्या , के करू बेटा बुड्डा आदमी सू , टिकट् कद्दे खू न जा, इसे खातिर घ्हणी सम्भाल् के धर रखी थी. टी.टी बोल्या, चूर्मे ते सेफ जगह् कौणी थी? न्यू कह् के टी. टी आगे चला गया. ऊसी ताऊ धोरे एक दूसरा ताऊ भी बैठ्या था, वा न्यू बोल्या अह रे बावली बूच, चूर्मा भी कोई टिकट धरण् कि जगह् से ? तू भी बुढापे मै कती बावला हो गया. ताऊ शैड् देनी सी बोल्या, ”’इसा बावला भी ना सू, 2 साल ते इसी टिकट पे सफ़र कर रहया सू”’.



हरयाणा रोडवेज के कंडक्टर

एक बै मुख्यमंत्री को शिकायत मिली कि हरयाणा रोडवेज के कंडक्टर बहुत बदतमीजी से बोलते हैं । उसने फौरन आदेश दिया कि हर एक कंडक्टर हरेक बात से पहले "कृपया" लगायेगा ।


एक बै एक बस में कई मौलड़ चढ़ लिये और खिड़की पर लटक लिये । थोड़ी हाण पाच्छै कंडक्टर आया अर बोल्या - कृपा करकै आगे-नै मर ल्यो !!

Haryanvi Jokes

बटेऊ का टिकट ?

एक बै दो तेज से बूढ़े हरयाणा रोडवेज की बस में बैठ लिये । कंडक्टर आया एक धोरै, अर बोल्या - "हां ताऊ, टिकट?"

बूढ़ा पईसे बचावण के चक्कर में था, बोल्या - "ओ मेरे यार कंडक्टर, न्यूँ सोच लिये अक गाम की छोरी फेट-गी थी" । कंडक्टर भी शरीफ था, मान-ग्या बेचारा ।

फिर कंडक्टर नै दूसरा ताऊ टोक लिया - "ताऊ, टिकट" ।

दूसरा ताऊ पहले वाले का भी उस्ताद लिकड़ा, बोल्या - "ओ मेरे यार कंडक्टर, छोडै ना, न्यूँ सोच लिये अक छोरी गैल बटेऊ भी था" !!

Haryanvi Jokes

Happy Birthday Shayari in hindi 
Hindi Romantic Shayari For Girlfriend

बस का बोर्ड

चंडीगढ़ से दिल्ली जाने वाली बस का कंडक्टर आवाज मारण लाग रहया था - दिल्ली...दिल्ली...दिल्ली !

पर बस कै आगै प्लेट लगा राखी थी लुधियाना की ।

एक गाभरू, चश्मे आळा छोरा कंडक्टर तैं बोल्या - बस कहां जायेगी ? कंडक्टर बोल्या - दिल्ली...दिल्ली !

उस छोरे कै तसल्ली ना हुई, अर उसनै कंडक्टर तैं फेर बूझया अक बस कित जावैगी । कंडक्टर बोल्या - दिल्ली...दिल्ली !

छोरा बोल्या - इस पै बोर्ड (प्लेट) तै लुधियाना का लाग रहया सै !

कंडक्टर कै छो ऊठ-ग्या अर बोल्या - "अरै, तन्नै इस बोर्ड पै बैठ कै जाणा सै अक बस में"?



Love Poems Collection 
English Jokes Englishman Joke England Joker 
Beautiful Poems On Friendship