majedar chutkule haryanvi majedar chutkule facebook



majedar chutkule haryanvi majedar chutkule facebook


आजकल जमाना खोटा आ रहया सै, बाळक भी बूढ़े ठेरां की बात ना मानते ।

एक बै के होया....अक एक बूढ़े नै एक गाभरू छोरे तैं कहया - जा रै छोरे, चिलम में आग धर ल्या ।

न्यूँ सुण कै छोरे के गात में आग लाग गी अक बूढ़े नै तेरे तैं या बात क्यूं कही । वो बूढ़े के डोग्गे तैं भी डरै था.... तै डरता डरता बोल्या - "दादा, मैं तै होक्का पीया ए ना करता, मैं आग कोनी धरूँ" ।

ईब बूढ़ा भी पुराणा खिलाड़ी था, फट दे नै बोल्या - रै ऊत के साळे, डांगरां खातिर सान्नी काट्या करै, वा के तू खाया करै सै ?



भाई, एक बै रल्डू जंगल होण गया अर साथ में पाणी की बोतल ले ग्या । वा पाणी की बोतल थोड़ी दूर धर कै झाड़ियाँ पाच्छै रोग काटण चल्या गया । थोड़ी हाण पाच्छै जब उल्टा आया तै देख्या अक बोतल में पाणी कोनी ! के करता ईब, बिना हाथ धोये चल्या गया ।

आगलै दिन फिर यो-ए हुया, फिर बिना हाथ धोये घरां चल्या गया । ईब पांच-छः दिन ताहीं न्यूं-ऐं चाल्लीं गया । घर में ईब सड़ांध फैलण लागी । सब रल्डू नै कहण लागे - भाई, के बात सै, तेरे में सड़ांध आवै सै !

रल्डू नै बी ठाण ली अक ईब-कै वो बेरा कर-कै छोडैगा कि उसका पाणी कित जावै सै ।

आगलै दिन उसनै बोतल उड़ै धर दी अर झाड़ी में लुक कै चुपचाप देखण लाग्या । उसनै देख्या एक बकरी सारा पाणी पी जावै सै !

वो झाड़ी तैं बाहर लिकड़ कै उस बकरी तैं बोल्या - मेरे साळे की, पी ले, पी ले - आज जितना पाणी सै, पी ले । काल तैं (कल से) मैं पहल्यां हाथ धोऊंगा, फिर जंगल होऊंगा !!




रामफळ दूसरे गाम में जा रहया था । जब आया तै रल्डू राह में फेट-ग्या ।

रल्डू - रै रामफळ, तू कित जा रहया था ? तेरी खातिर दो खबर सैं - एक आच्छी अर दूसरी भूंडी । कुण-सी पहलम सुणाऊं ?

रामफळ - भाई, भूंडी खबर पहलम सुणा दे । कम-तै-कम आच्छी सुण कै मूड तै ठीक हो ज्यागा !

रल्डू - तन्नैं पाछले म्हीने जो पचास हजार की म्हैंस ली थी ना, वा मर-ग्यी ब्यांदी हाणां ।

रामफळ - चाळा पाट-ग्या भाई ! मैं तै बरबाद हो-ग्या । ईब कम-तैं कम आच्छी खबर तै सुणा दे ।

रल्डू - उसनै काटड़ा दिया था, वो बच-ग्या !!!



एक बै एक पुलिस आळे नै एक टैंम्पू आळा पकड़ लिया अर बोल्या - चल थाणे !

टैंम्पू आळा बोल्या - क्यूं चाल्लूं थाणे ? मेरा खोट तै बता ! मेरै धोरै सारे कागच सैं, रजिस्ट्रेशन, लाइसेंस - सब कुछ सै ।

पुलिस आळा बोल्या - पांच सौ रुपय्ये काढ़ ।

टैंपू आळा फिर बोल्या - मेरा खोट तै बता !

पुलिस आळे नै जवाब दिया - तू छः महीने ताहीं कोए खोट ना करै, तै हम के तेरै पाच्छै घूमीं जांगे ?