Top Best Suvichar In Hindi by Chanakya


संसार एक कड़वा वृक्ष है, इसके दो फल ही अमृत जैसे मीठे होते हैं – एक मधुर वाणी और दूसरी सज्जनों की

संगति।



मैं अकेली हूँ, लेकिन फिर भी मैं हूँ| मैं सबकुछ नहीं कर सकती, लेकिन मैं कुछ तो कर सकती हूँ|और सिर्फ

इसलिए कि मैं सब कुछ नहीं कर सकती, मैं वो करने से पीछे नहीं हटूंगी जो मैं कर सकती हूँ|




क्रोध को पाले रखना, गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकडे रहने के सामान है; इसमें आप

स्वंय ही जलते हैं|




ब्रह्माण्ड की सारी शक्तियां पहले से हमारी हैं| वो हमीं हैं जो अपनी आँखों पर हाँथ रख लेते हैं और फिर रोते हैं

कि कितना अन्धकार है|




किसी भी चीज़ का पछतावा ना करे. अगर वो अच्छा है तो, बेहतरीन है, अगर वो बुरा है तो, अनुभव है.


Recent Post :



Famous Love Poems With Images 
Romantic Anniversary Poems 
Funniest knock knock Jokes